चुंबकीय बल परिभाषा | मात्रक | सूत्र

चुंबकीय बल किसे कहते हैं – chumbakiya bal kise kahate hain

“किसी एक चुंबक (Magnet) के द्वारा दूसरे चुंबक पर या चुंबकीय पदार्थ (Magnetic Material) पर लगाया गया आकर्षण या प्रतिकर्षण बल (Attractive or Repulsive Force) , चुंबकीय बल (Magnetic Force)कहलाता है |”

एक धारावाही चालक (एक तार) एक बल अनुभव करता है जब इसे एक चुम्बकीय क्षेत्र में रखा जाता है। धारा आवेशित कणों का समूह है जो कि गति में है। इस प्रकार, प्रत्येक गतिमान आवेशित कण एक चुम्बकीय क्षेत्र में एक बल अनुभव करता है, जो लारेन्ज बल कहलाता है।

एक धनात्मक आवेश द्वारा अनुभव किये गये बल को दिशा वही होगी जो कि धारा के लिए होती है और फ्लैनिंग के बाँये हाथ के नियम से दी जाती है।

एक धारावाही चालक पर एक चुम्बकीय क्षेत्र में लगने वाला बल दिया जाता है –

F = B I l

यदि Q, समय t में चालक में से गुजरा हुआ आवेश है, तो हम लिख सकते हैं –

I =

उपरोक्त सम्बन्ध, जब एक साथ रखते हैं तो यह देता हैं,

F = = BQv

जहाँ v क्षेत्र की दिशा के लम्बवत् आवेशित कण का वेग है

Leave a Comment

Your email address will not be published.