शब्दों की अशुद्धियाँ किसे कहते है? | Shabdo Ki Ashudhiya

हेलो स्टूडेंट, हम आपको इस आर्टिकल में हिंदी व्याकरण के महत्वपूर्ण अध्याय शब्दों की अशुद्धियाँ किसे कहते है? आदि के बारे में बताया गया है |

शब्दों की अशुद्धियाँ:

व्याकरण के सामान्य नियमों की ठीक -ठीक जानकारी न होने के कारण विद्यार्थी से बोलने और लिखने में प्रायः भद्दी भूलें हो जाया करती हैं। शुद्ध भाषा के प्रयोग के लिए वर्णों के शुद्ध उच्चारण, शब्दों के शुद्ध रूप और वाक्यों के शुद्ध रूप जानना आवश्यक हैं।

विद्यार्थी से प्रायः दो तरह की भूलें होती हैं- एक शब्द-संबंधी, दूसरी वाक्य-संबंधी।
शब्द-संबंधी अशुद्धियाँ दूर करने के लिए छात्रों को श्रुतिलिपि का अभ्यास करना चाहिए।

कुछ अशुद्धियों की सूची उनके शुद्ध रूपों के साथ यहाँ दी जा रही है-

अशुद्धशुद्ध
अनुकुलअनुकूल
अध्यनअध्ययन
अस्थानस्थान
अद्वितियअद्वितीय
अरमूदअमरूद
ईर्षाईर्ष्या
उँचाईऊँचाई
उन्नतीउन्नति
नमष्कारनमस्कार
नबावनवाब
नछत्रनक्षत्र
नारिनारी
राज्यमहलराजमहल
निरोगनीरोग
पुष्टीपुष्टि
प्रंतुपरंतु
पूण्यपुण्य
पुस्पपुष्प
छि: छि:छी छी
उपरऊपर
उज्वलउज्ज्वल
उत्कृष्ठउत्कृष्ट
कलसकलश
कल्यानकल्याण
गनितगणित
गृहस्थ्यगृहस्थ
चिन्हचिह्न
चांदचाँद
छमाक्षमा
ज्येष्टज्येष्ठ
यथेष्ठयथेष्ट
शत्रुह्नशत्रुघ्न
रसायणरसायन
रामायनरामायण
लछिमनलक्ष्मण
लिक्खालिखा
लच्छनलक्षण
बनावासवनवास
छःछह
अनाधिकारअनाधिकार
पृष्टपृष्ठ
प्राप्तीप्राप्ति
पत्निपत्नी
प्रसंशाप्रशंसा
प्रनामप्रणाम
पमेश्र्वरपरमेश्र्वर
परिक्षापरीक्षा
पुज्यपूज्य
पुरष्कारपुरस्कार
प्रशादप्रसाद
प्रतिकुलप्रतिकूल
प्रानप्राण
परस्थितिपरिस्थिति
पिचासपिशाच
ब्रम्हब्रह्य
बुढाबूढा
ब्राम्हनब्राह्यण
भष्मभस्म
मट्टीमिट्टी
मैथलीशरणमैथिलीशरण
दांतदाँत
हिंदुहिंदू
हंसनाहँसना
हिन्दूस्तानहिन्दुस्तान
मैत्रतामित्रता, मैत्री
ऐक्यताएकता, ऐक्य
धैर्यताधैर्य, धीरता
माधुर्यतामाधुर्य, मधुरता
पैत्रिकपैतृक
एकत्रितएकत्र
सकुशलपूर्वकसकुशल कुशलतापूर्वक
उपरोक्तउपर्युक्त
उपरीलिखितउपरिलिखित
निरसनीरस
सन्याससंन्यास
मंत्रीमंडलमंत्रिमंडल
योगीराजयोगिराज
भाग्यमानभाग्यवान्
विद्वानविद्वान्
व्यावहारव्यवहार
धनमानधनवान्
बिठायाबैठाया
पहिलेपहले
वीनावीणा
वानीवाणी
वास्पवाष्प
सप्ताहिकसाप्ताहिक
सन्मानसम्मान
सिंदुरसिंदूर
सुर्यसूर्य
समुद्रिकसामुद्रिक
सुर्पनखाँशूर्पणखा
साशनशासन
सृष्टीसृष्टि
स्मसानश्मशान
सम्राज्यसाम्राज्य
संसारिकसांसारिक
समीतिसमिति
सूचिपत्रसूचीपत्र
स्वास्थस्वास्थ्य
स्मर्णस्मरण
सृंगारश्रृंगार
शक्तीशक्ति
षष्टषष्ठ
बुद्धिवानबुद्धिमान्
भगमानभगवान्
घनिष्टघनिष्ठ
आंखआँख
बांसबाँस
अंगनाअँगना
कंगनाकँगना
उंचाऊँचा
जाऊंगाजाऊँगा
दुंगादूँगा
छटांकछटाँक, छटाक
पांचवापाँचवाँ
शिघ्रशीघ्र
गुंगागूँगा
पहुंचापहुँचा
गांधीजीगाँधीजी
सूंडसूँड
बांसुरीबाँसुरी
महंगामहँगा
मुंहमुँह
उंगलीऊँगली
जहांजहाँ

Hindi Grammar Class 6, 7, 8, 9, 10, 11 and 12

FAQs

शब्दार्थ गत अशुद्धियों से आप क्या समझते हैं?

जब विद्यार्थियों को व्याकरण के सामान्य नियमों की जानकारी नहीं होती तो विद्यार्थियों से बोलने और लिखने में प्रायः कई गलतियाँ हो जाया करती हैं। शुद्ध भाषा के प्रयोग के लिए वर्णों के शुद्ध उच्चारण, शब्दों के शुद्ध रूप और वाक्यों के शुद्ध रूप जानना बहुत आवश्यक है।

वर्तनी सम्बन्धी अशुद्धियाँ कितने प्रकार की होती है?

‘ब’ और ‘व’ की अशुद्धियाँ- ‘ब’ और ‘व’ के प्रयोग के बारे में हिन्दी में प्रायः अशुद्धियाँ होती हैं। इन अशुद्धियों का कारण है अशुद्ध उच्चारण। शुद्ध उच्चारण के आधार पर ही ‘ब’ और ‘व’ का भेद किया जाता है।

भाषा में होने वाली अशुद्धियों के प्रमुख कारण क्या है?

वर्तनी की अशुद्धियोँ के प्रमुख कारण निम्न हैँ जहाँ ‘श’ एवं ‘स’ एक साथ प्रयुक्त होते हैँ वहाँ ‘श’ पहले आयेगा एवं ‘स’ उसके बाद। जैसे– शासन, प्रशंसा, नृशंस, शासक । इसी प्रकार ‘श’ एवं ‘ष’ एक साथ आने पर पहले ‘श’ आयेगा फिर ‘ष’, जैसे– शोषण, शीर्षक, विशेष, शेष, वेशभूषा, विशेषण आदि।

अशुद्ध उच्चारण क्या है?

अशुद्ध उच्चारण के बीच पलने वाला बालक शुद्ध उच्चारण नहीं कर पाता है। अक्षरों एवं मात्राओं का अस्पष्ट ज्ञान: जिन छात्रों को अक्षरों एवं मात्राओं का स्पष्ट ज्ञान नहीं दिया जाता, उनमें उच्चारण-दोष होता है। संयुक्ताक्षरों के संदर्भ में यह भूल अधिक होती है; जैसे स्वर्ग को सरग कहना, कर्म को करम कहना, धर्म को धरम कहना आदि।

वर्तनी शुद्धता का क्या महत्व है?

वर्तनी की शुद्धता भाषा का अनिवार्य अंग है। अभिव्यक्ति के विचारों की क्रमिकता एवं सुसम्बधता कितनी ही सुव्यवस्थित क्यों न हो परन्तु यदि विचारों को व्यक्त करने वाली भाषा शुद्ध नहीं तो उसका प्रभाव नगण्य बनकर रह जायेगा। भाषा की शुद्धता मुख्यतः शुद्ध वर्तनी पर निर्भर करती है।

हम उम्मीद रखते है कि शब्दों की अशुद्धियाँ किसे कहते है? आपकी स्टडी में उपयोगी साबित हुए होंगे | अगर आप लोगो को इससे रिलेटेड कोई भी किसी भी प्रकार का डॉउट हो तो कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूंछ सकते है |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *